Daily Updated News Website

सूरत में 11 साल की बच्ची का शव बरामद, शरीर पर चोट के 86 निशान, रेप की आशंका

0

सूरत- जम्मू-कश्मीर के कठुआ में नाबालिग बच्ची से गैंगरेप का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि गुजरात के सूरत से एक ऐसा ही दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। सूरत में एक 11 साल की बच्ची का शव बरामद हुआ है। उसके शरीर पर चोट के 100 के करीब (86) निशान मिले हैं। समाचार एजेंसी के हवाले से खबर है कि बच्ची के प्राइवेट पार्ट में भी चोट के निशान हैं। जिससे रेप की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है।

बच्ची के शरीर पर पाए गए चोट के निशान से यह अनुमान लगाया जा रहा है कि उसे कम से कम 7 दिन तक टॉर्चर किया गया होगा। सैंपल को फॉरेंसिक जांच के लिए लिए भेज दिया गया है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही यह तय हो पाएगा कि बच्ची का यौन उत्पीड़न किया गया है या नहीं। बच्ची के शरीर पर मिले चोट के ज्यादातर निशान लकड़ी के डंडे के हैं। सूरत सिविल अस्पताल के फॉरेंसिक हेड ने कहा कि बच्ची को आखिरकर गला घोंटकर मारा गया है। सूरत सिविल अस्पताल के फॉरेंसिक हेड गणेश गोवेकर ने कहा कि पोस्टमॉर्मट रिपोर्ट के दौरान हमने पाया कि शरीर पर जो चोट के निशान हैं वह एक से सात दिन पुराने हैं। उन्होंने कहा कि बच्ची के शरीर पर 86 चोट के निशान हैं।

बता दें कि सूरत के भेस्तान इलाके में एक ग्राउंड में 6 अप्रैल को पुलिस को 11 साल की बच्ची का शव मिला था, जिसकी अब तक पहचान नहीं हुई है। बच्ची के शव की अब तक शिनाख्त नहीं हो सकी है। पुलिस अधिकारी केबी झाला ने बताया कि बच्ची ने 6 अप्रैल की सुबह मॉर्निंग वॉक के दौरान बच्ची का शव देखा था और इसके बाद उन्होंने पुलिस को इसकी खबर दी थी।

गौरतलब है कि एक दिन पहले ही कठुआ और उन्‍नाव में हुई रेप की वारदातों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपनी चुप्‍पी तोड़ी थी।पी.एम मोदी ने ट्वीट कर कहा है था कि ऐसी घटनाएं शर्मसार करती हैं और बेटियों को इंसाफ मिलेगा। पी.एम.ओ. इंडिया के ट्वीट के अनुसार पी.एम मोदी ने कहा, ‘जिस तरह की घटनाएं हमने बीते दिनों में देखीं हैं, वो सामाजिक न्याय की अवधारणा को चुनौती देती हैं। पिछले 2 दिनों से जो घटनाएं चर्चा में हैं वो निश्चित रूप से किसी भी सभ्य समाज के लिये शर्मनाक हैं। एक समाज के रूप में, एक देश के रूप में हम सब इसके लिए शर्मसार हैं।

प्रधानमंत्री आगे लिखते हैं, ‘देश के किसी भी राज्य में, किसी भी क्षेत्र में होने वाली ऐसी वारदातें, हमारी मानवीय संवेदनाओं को झकझोर देती हैं। मैं देश को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि कोई अपराधी बचेगा नहीं, न्याय होगा और पूरा होगा। हमारे समाज की इस आंतरिक बुराई को खत्म करने का काम, हम सभी को मिलकर करना होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Translate »